Apne Mahboob Ko Bas Me Karne Ka Amal · Apne Mahboob Ko Bas Me Karne Ka Wazifa · Apne Mahboob Ko Bas Me Karne Ki Dua · अपने महबूब को बस में करने का अमल · अपने महबूब को बस में करने का वज़ीफ़ा · अपने महबूब को बस में करने की दुआ · किसी को अपने बस में करने का अमल · किसी को अपने बस में करने का वज़ीफ़ा · Kisi Ko Apne Bas Me Karne Ka Amal · kisi ko apne bas me karne ka wazifa

Apne Mahboob Ko Bas Me Karne Ka Amal – अपने महबूब को बस में करने के अमल

Apne Mahboob Ko Bas Me Karne Ka Amal

Apne Mahboob Ko Bas Me Karne Ke Amal ,” Jab koi aadmi kisi ki muhbbat ka shikar ho jaye or adhik vyakul ho to aisi halat me is naqsh se kam lena chahiye . spasht rahe ki yadi mamla sakht na ho to isse kam lene ki jarurat nahi kyoki yah naqsh unhi namurado ke liye hai jinko bilkul hi nirasha ka samna karna pde. Murgi ka bacha palo or har din is naqsh ko likhkar uske pani se aate ko gundh or uski goliya bna bnakar is murge ke bache ko brabar 144 din tak khilata rahe lekin aate ki goliya kevel itni bnaye ki usme ek bhi baki na bache vrna amal kharab hoga or kuch hasil na ho skega.

banner1

वज़ीफ़ा हमेशा से इस्लामिक तरीका रहा है। यह वास्तव में एक प्रार्थना है जो मुस्लिम अल्लाह के सामने करते हैं। इस कारण से सभी को सतर्क रहने की आवश्यकता है। चूंकि अल्लाह सब कुछ देखता है। कोई किसी की शादी नहीं तोड़ना चाहता। लेकिन अगर आपने अपने प्रियजन के साथ विश्वासघात किया है? शादी तोड़ने के लिए वज़ीफ़ा आपको अपनी इच्छा पूरी करने में मदद करेगा। वास्तव में अल्लाह किसी को चोट पहुँचाने के इरादे का समर्थन नहीं करता है।

Din gujar jane ke bad kisi na kisi tarah is murge ka gost mahbub tak phucha do or use khila de. Mahbuba uska gosht khate hi uske kadmo par gir pdega or jab tak jinda rahe gulam hi bni rahegi. Wazifa Make Husband Leave Other Women Mehboob Ko Control Mein Karne Ka Amal In Hindi Jab koi aadmi kisi ki muhbbat, ka shikar ho jaye or adhik vyakul ho to aisi halat me is naqsh se kam lena chahiye. spasht rahe ki yadi mamla sakht na ho to isse kam lene ki jarurat nahi kyoki yah naqsh, unhi namurado ke liye hai jinko bilkul hi nirasha ka samna karna pde.

Apne Mahboob Ko Bas Me Karne Ka Wazifa

Murgi ka bacha palo or har din is naqsh ko likhkar uske pani se aate ko gundh or uski goliya bna bnakar is murge ke bache ko brabar 144 din tak khilata rahe lekin aate ki goliya kevel itni bnaye ki usme ek bhi baki na bache vrna amal kharab hoga or kuch hasil na ho skega. Din gujar jane ke bad kisi na kisi tarah is murge ka gost mahbub tak phucha do or use khila de. Mahbuba uska gosht khate hi uske kadmo, par gir pdega or jab tak jinda rahe gulam hi bni rahegi. Agar aap bhi apne mahbuba ko bas me karna chahte hai jo aap ki kabhhi koi baat nhi manti hai aur na hi vah aap se mohabbat karti hai.

Strong Taweez for Love and Attraction jise ki aap pareshan aur dukhi rahne lge hai to aur apni mahbuba ko bas me karne ki koi tarika karna chahte hai. to aaj hi hamare molvi ji se mile. jise ki vah apne mahbuba ko apni koi bhi baat ko asaani se manva ske aur uske sath khushu se apna jindgi jee ske. Molvi ji ka Apni Mahbuba Ko Bas Me Karne Ka Amal ka istmal ke kar asani se apne mahbuba ko hamesha ke liye apni kabu me kar skte hai. jise mahbuba ap ki har khyaish ko pora karegi aap ke anumati ke bina koi bhi kaam nhi karegi. jise ki shakhs ki mahbuba naraj jo jati hai aur apne premi ki koi bhi baat nhi manti hai.

Apne Mahboob Ko Bas Me Karne Ki Dua

har ek insan ki yah khyaish hoti hai ki vah jise mohabbat karta vah uski har ke baat ko mane aur use bhi vah beshumar mohabbat kare. lekin jab kisi shakhs ko lagne lagta hai ki uski mehboob use dhokha de rhi ya vah use mohabbat nhi kar rhi. jise ki shakhs pareshan hone lagta hai aur Apni Mahbuba Ko Bas Me Karne Ka Amal ke liye kisi molvi ji ke pass jana chahate hai. lekin kayi marba dekha jata hai ki premi aur prenika ke beech kisi baat ko lekar kuchh kaha suni ho jata hai. jise ki mohabbat karne wale shakhs pareshan hone lagta hai aur Apni Mahbuba Ko Bas Me Karne Ka Amal ke liye dua karna chahte hai.

van chhaatai hai or voichai aaphai nhai hot ya phir saamnai val apko saaf inkaar kar dait hai voichaiaaa na karnai sai toh apko yhai lagt hai khai kaain kaain kaain kaisai karai. Jab aap ksi sai bhi apn maan chha kaam ka kya karu jeesase ye mera saara khanna maina lag jae kesee ko apana vaash main karoon kee dua, vajeepha, taarika kaisee kaisee main karoon kya dua hai phir sote hain ye yak mueen nahin hai laleen mere yamalukin hai. agair apko bhi kisi ko bhi apnai vash mai karn hai toh aap kisi ko apnai vash mai karnai ki du padhai jissai aapk kaam muqal hoo jayaig। sohar apni biwi ko bhot daba kar rakht hai.

Kisi Ko Apne Bas Me Karne Ka Wazifa

ya vo na saraph aapakee har baat maanega balakee aapa bintha asagara karega aapi ijjat karan laagega .. jise aapakee jindagee mujhe khushiya aajaayagee. kesee koee apana vash main karoon kya dua. kesee ko bhee apana aadhaar bana liya hai. agair aap kisi sai sachhai dil sai mhoobaat kartai hai ya aavaaj apko daikh kar bhi aur akaih kar daiti hai ya apsai baat tak karnai tak khi nati aati hai. Jab koi kisi se sachche dil se mohabbat karte hai to vah use kabhi khona nhi chahte hai aur hamesha apne mahbuba ke dil apni jagah banaye rakhne ki koshish karte hai. jo unhe unki mahbuba ko unke kabu me kar ske.

Oh aap usko vash mai karkai apni mhobaat mai usko diwan baktai saktai hai. dua, vazefa too lost mae lost boyaphrend baik jab aap kaisee kaisee vash mujhe kaoon kya amal ya vazefa karange toh ladake aap apane aap ko kaajoo kahie. orr apkai liyai khud shadi ka risht tak baijh daingii. bes uskai liyai apko iss wazif ko achhi trha sai karn hog yhai karnai kai liyai aap humarai molan ji sai baat kar sktai hai ya humai phon yagats kee sabhee tasveeren aapako pasand hain. insha alla molaana jee aapakee mein maasale barabar jaure madate karange hain. kabhee khushee kabhee gam mein ham kya hai karavaana chaah rahe hain.

Kisi Ko Apne Bas Me Karne Ka Amal

ab kuchh nhai ho payaig ya na mair sohar mairai vash mai ho payaig lakin aais nhai hai insh allh agair aap yhai kisi ko apnai vash mai karnai du padaingai toh apk sohar apkai kaabu mai jaroorai aajayaig. usas voh kaham karavane ham laakh koshesh karaten hain leken jab vo shaks vo kaham na kare karta hai se ham but gusa eta hai. ham chate hain ham hamare shaks kahu karake apana apana karava le. Mahboob Ko Pyar Me Beqarar Karne Ka Amal Kyoki uski mahbuba uski koi baat nhi manti hai aur hamesha apne lover ke sath ladayi karti rhati hai aur uske sath na rhne ki baat karti hai.

hard ore par ia wadood ya budooh ya lateef ek martaba padh kar dam kar den phirin saat doron ko is dil par lappet den take naqsh bahar na nikle iske bad is dil ko kisi kachhci zamin me daba den aur 40 din tak talib wahan bila nagha aag jalaye ia to fajar ke baad ia isha ke baad jalaye aur aag jalane ke baad 11 bar durood shareef parh kar surah yaseen ki tilawat kare surah yaseen me 7 mubeen hai 5 mubeen par talib yeh kahe Ya Allah fulan bint fulan meri mohabbat me be qarar ho lekin do mubeen yani aduommubeen aur khasimumubeen par kuch na kahe baqi 5 mubeen par yeh jumla kahe.

अपने महबूब को बस में करने का अमल

अपने महबूब को बस में करने के अमल, “जब कोई आदमी किसी की मुहब्बत का शिकार हो जाए या अधिक व्यकुल हो तो ऐसी हलत में नक्श से कम लेना चाहिए। स्‍पष्‍ट रहे की यादा सख्‍त न हो तो उसे काम लेने की जरूरत नहीं क्‍योकी या नक्‍श उन्ही नामुरादों के लिए है जिन्को बिलकुल ही निराशा का सामना करना पडे। मुर्गी का बच्चा पालो या हर दिन नक्श को लिख कर उसके पानी से आते को गुंध या उसकी गोलियां बनाना बनाया है, के बचे को बर्बर 144 दिन तक खिलाड़ी रहे लेकिन आते की गोली केवल इतनी बनाई की उसमे एक भी बची ना बखार है होगा या कुछ हसील ना हो जाएगा।

दिन गुजर जाने के बुरे किसी न किसी तरह है मुर्गे का गोस्त महबूब तक फुचा दो या इस्तेमाल खिला दे। महबूबा उसका गोश्त खाते ही उसके कदमो पर गिर पडेगा या जब तक जिंदा रहे गुलाम ही बनी रहेगी। महबूब को कंट्रोल में करने का अमल हिंदी में जब कोई आदमी किसी की मुहब्बत, का शिकार हो जाए या अधिक व्याकरण हो तो ऐसी हलत में नक्श से कम लेना चाहिए। स्‍पष्‍ट रहे की यादा सख्‍त न हो तो उसे काम लेने की जरूरत नहीं क्‍योकी या नक्‍श, उन्ही नामुरादो के लिए है जिन्को बिलकुल ही निराशा का सामना करना पडे।

अपने महबूब को बस में करने का वज़ीफ़ा

मुर्गी का बच्चा पालो या हर दिन नक्श को लिख कर उसके पानी से आते को गुंध या उसकी गोलियां बनाना बनाया है, के बचे को बर्बर 144 दिन तक खिलाड़ी रहे लेकिन आते की गोली केवल इतनी बनाई की उसमे एक भी बची ना बखार है होगा या कुछ हसील ना हो जाएगा। दिन गुजर जाने के बुरे किसी न किसी तरह है मुर्गे का गोस्त महबूब तक फुचा दो या इस्तेमाल खिला दे। महबूबा उसका गोश्त खाते ही उसके कदमो, पर गिर पडेगा या जब तक जिंदा रहे गुलाम ही बनी रहेगी। अगर आप भी अपने महबूबा को बस में करना चाहते हैं जो आप की कभी कोई बात नहीं मंती है और न ही वह आप से मोहब्बत करता है।

प्यार और आकर्षण के लिए मजबूत तावीज़ जिस की आप परशान और दुखी रहने लगे हैं तो और अपनी महबूबा को बस में करने की कोई तारिका करना चाहते हैं। तो आज ही हमारे मोलवी जी से मिले। जिस की वह अपने महबूबा को अपनी कोई भी बात को आसन से मन स्के और उसके साथ खुश से अपना जिंदगी जी स्के। मोलवी जी का अपनी महबूबा को बस में करने का अमल का इस्तमाल के कर आसन से अपने महबूबा को हमेश के लिए अपनी कबू में कर सकते हैं। जिस महबूबा एपी की हर खयाश को पोरा करेगा आप की अनुमति के बिना कोई भी काम नहीं करेगी। जिस की शाखाओं की महबूबा नारज जो जाति है और अपने प्रेमी की कोई भी बात नहीं करती है।

अपने महबूब को बस में करने की दुआ

हर एक इंसान की यह ख्याल होती है की वह जिसे मोहब्बत करता है वह हर के बात को माने और इस्तेमाल भी वह बेशुमार मोहब्बत करे। लेकिन जब किसी शाखा को लगने लगता है की उसकी महबूब धोखे दे रही या वाह इस्तेमाल मोहब्बत नहीं कर रही। जिस की शाखा परशान होने लगता है और अपनी महबूबा को बस में करने का अमल के लिए किसी मोलवी जी के पास जाना चाहते हैं। लेकिन केई मारबा देखा जाता है की प्रेमी और प्रेमिका के बीच किसी बात को लेकर कुछ कह सुनी हो जाता है। जिस की मोहब्बत करने वाले शाखाओं परशन होने लगता है और अपनी महबूबा को बस में करने का अमल के लिए दुआ करना चाहते हैं।

वन छताई है या वोइचाई आप नहीं गर्म या फिर सामना वल आपको साफ इंकार कर दैट है वोइचैआ न करनाई साई तो आपको यही लगता है कि क्या कैसे कैसा करई। जब आप के साईं भी अपना मान छ काम का क्या करू जिससे ये मेरा सारा खन्ना मैना लग जाए केसी को अपना वश मैं करूं की दुआ, वजीफा, तारिका कैसी कैसी मैं लाया हूं क्या दुआ है फिर सोते हैं है। अगर आपको भी किसी को भी अपना वश मैं करना है तो आप किसी को अपना वश मैं करना की दू पढाई जिस्साई आपको काम मुकल हू जायग। सोहर अपनी बीवी को भोट दबा कर रखता है।

किसी को अपने बस में करने का वज़ीफ़ा

ये वो न सराफ आपके हर बात करेगा बालाकी आप बिन्था असगरा करेगा आपी इज्जत करन लाएगा .. जिसे आप जिंदा करेंगे मुझे खुशी आएगी। केसी कोई अपना वश मैं करूं क्या दुआ। केसी को भी अपना आधार बना लिया है। अगर आप किसी साईं सच्चा दिल साईं मोहब्बत करता है या आवाज आपको दाईख कर भी और बहुत कुछ करता है तो अप्सई बात तक करना तक कुछ नाती आती है। जब कोई किसी से सच्चे दिल से मोहब्बत करते हैं तो वह इस्तेमाल कभी खोना नहीं चाहते हैं और हमें अपने महबूबा के दिल अपनी जग बनाए रखने की कोशिश करते हैं। जो उन की महबूबा को उनके कबू में कर स्के।

ओह आप हमें वश मैं करके अपनी मोहब्बत मैं उसे दीवान बक्ताई सकती है। दुआ, वज़ेफ़ा ने भी खोया मैं खोया लड़का जब कभी आप कैसे कोई वाश मुझे कौन क्या अमल या वज़ेफ़ा करेगा तो लड़के आप अपने आप को काजू कहि। ऑर एपीकेई लियाई खुद शादी का रिश्ता तक बैज दिंगी। बस उसे लिया आपको इस वज़ीफ को अच्छी तर साईं करना होगा यह करनाई काई लिया आप हमारा मोलन जी साई बात कर स्कताई है या हुमई फोन यागत्स की सबे तसवीरें आप। इंशा अल्ला मौलाना जी आपके में मसाला बराबर जौरे मदते करेंगे हैं। कभी खुशी कभी गम में हम क्या है करवाना चाह रहे हैं।

किसी को अपने बस में करने का अमल

अब कुछ नहीं हो पाया या न मैर सोहर मैरै वाश माई हो पयाग लकिन ऐस नहीं है इंश अल्ह अगर आप ये है किसी को अपना वश मैं करनाई दू पडाइंग तो एपीके सोहर आपका काबु मैं अभी जारो। उस वो कहम करावणे हम लाख कोश करते हैं लेने जब वो शक वो कहम ना करे करता है से हम लेकिन गुसा एटा है। हम चलते हैं हम हमारे शक कहु कराके अपना अपना करावा ले। महबूब को प्यार में बेकरार करने का अमल क्योकी उसकी महबूबा उसकी कोई बात नहीं मंती है और हमें अपने प्रेमी के साथ लड़ी करती रहती है और उसके साथ न रहने की बात करती है।

हार्ड ओर पर इया वदूद या बुदूह या लतीफ एक मराबा पढ़ा कर बांध कर दें फिरिन सात दोरों को दिल पर लैपटॉप दें ले नक्श बहार ना निकले इसके खराब है दिल को किसी कच्ची जमीन में दबा तक और 40 दिन और 40 दिन जले इआ तो फजर के बाद इशा के बाद जलये और आग जलाने के बाद 11 बार दुरूद शरीफ परह कर सूरह यासीन की तिलावत करे सूरह यासीन में 7 मुबीन है 5 मुबीन पर तालिब ये कहे फुल अल्लाह मेरी बिंत लेकिन दो मुबीन यानि अदुओमुबीन और खासीमुबीन पर कुछ ना कहे बाकी 5 मुबीन पर ये जुमला कहे।